Tuesday, 15 September 2015

जुगनू की रोशनी में...

लिखी रेत पे कविता

लिखा नाम तुम्हारा

लिखा क़लमा...

परवाज़ रूह हो गयी

जुगनू की रोशनी में...

No comments:

Post a Comment